छत्तीसगढ़तकनीकी / व्यापारदेश विदेशबस्तर संभाग

मीडिया और मनोरंजन उद्योग अमृत काल में अपनी अतुलनीय छाप छोड़ेगाः पीयूष गोयल

दिल्ली:-केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग, कपड़ा और उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री श्री पीयूष गोयल ने कहा कि मीडिया और मनोरंजन उद्योग भारत के लिए अमृत काल के इस निर्णायक क्षण में अतुलनीय छाप छोड़ेगा। फिक्की फ्रेम्स 2023 में अपने संबोधन के दौरान, केंद्रीय मंत्री ने भारतीय सिनेमा को वैश्विक मानचित्र पर ले जाने की प्रतिबद्धता के लिए उद्योग की सराहना की।
मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व में सरकार मीडिया और मनोरंजन उद्योग द्वारा विश्व स्तर पर इस क्षेत्र की सीमाओं का विस्तार करने और दुनिया के दूर दराज के कोनों तक पहुंचने के सभी प्रयासों में मदद कर रही है। श्री गोयल ने कहा कि मीडिया और मनोरंजन उद्योग दुनिया को यह संदेश दे सकता है कि भारत 2047 तक एक विकसित राष्ट्र बनने की राह पर है। उन्होंने यह भी कहा कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था के रूप में एक अद्वितीय प्रतिभा और कौशल के साथ बेहद प्रतिस्पर्धी मूल्य पर दुनिया को आर्थिक विकास और व्यापार वृद्धि के लिए बेजोड़ अवसर भी प्रदान करता है।
मंत्री ने आधुनिक तकनीकों को कुशलतापूर्वक अपनाने के लिए उद्योग की सराहना की और कैमरों के रूप में स्मार्टफोन के व्यापक उपयोग का उदाहरण दिया। श्री गोयल ने कहा कि डिजिटल प्लेटफॉर्म के आने से मीडिया और मनोरंजन उद्योग का तेजी से विकास होगा। श्री पीयूष गोयल ने अवतार जैसी हॉलीवुड फिल्मों में शामिल भारतीय वीएफएक्स कंपनियों की सराहना की। उन्होंने कहा कि स्टार्टअप्स इस क्षेत्र के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं।
मंत्री ने कहा कि मीडिया और मनोरंजन उद्योग दुनिया को आज का नया भारत दिखा सकता है और अर्थव्यवस्था को बढ़ावा दे सकता है, देश को नए दर्शकों तक पहुंचने में मदद कर सकता है, विचारों को प्रभावित कर सकता है और सकारात्मकता फैला सकता है। उन्होंने कहा कि यह सकारात्मकता लोगों, सरकार और व्यवसायों को अधिक आकांक्षात्मक होने और बेहतर जीवन शैली और बेहतर व्यावसायिक अवसरों की मांग के साथ भविष्य को देखने के लिए प्रोत्साहित करती है।
श्री गोयल ने कहा कि मीडिया और मनोरंजन उद्योग भारत के सांस्कृतिक दूत हैं और उन्होंने भारत को एक विशिष्ट पहचान दी है। उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि मीडिया और मनोरंजन उद्योग में लोगों, व्यवसायों और राष्ट्रों को जोड़ने की बहुत बड़ी क्षमता है, जिससे दुनिया भर में विभिन्न संस्कृतियों और स्थितियों की बेहतर समझ और प्रशंसा हो सके।
श्री गोयल ने कहा कि दुनिया भी भारतीय कला और संस्कृति की सराहना कर रही है और हाल ही में ‘नाटु-नाटु’ गीत और ‘एलिफेंट व्हिस्परर्स’ के लिए ऑस्कर पुरस्कार इस वैश्विक प्रशंसा को प्रदर्शित करते हैं। श्री गोयल ने कहा कि इन पुरस्कारों ने भारत को एक सामाजिक संदेश देने में मदद की कि स्थिरता भारतीय संस्कृति और परंपरा के मूल में है। उन्होंने कहा कि नारी शक्ति के संदेश को भी प्रभावी ढंग से व्यक्त किया गया क्योंकि पुरस्कारों ने इस बात पर प्रकाश डाला कि भारतीय महिलाएं नए भारत को परिभाषित कर रही हैं। श्री गोयल ने कहा कि इन उपलब्धियों से अरबों लोगों का मनोबल बढ़ रहा है।
श्री पीयूष गोयल ने कहा कि ‘इंस्पायर, इनोवेट एंड इमर्स’ थीम वर्तमान समय के लिए प्रासंगिक है क्योंकि यह मीडिया और मनोरंजन उद्योग द्वारा प्रदर्शित जीवंतता को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि यह थीम इस विश्वास के साथ भी प्रतिध्वनित होता है कि रचनात्मकता वास्तव में वाणिज्य को बढ़ा सकती है। उन्होंने कहा कि उद्योग भारत की सांस्कृतिक पहचान और सांस्कृतिक विरासत के प्रमुख स्तंभ के रूप में कार्य करता है। मंत्री ने कहा कि फिक्की फ्रेम्स अब मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र में एक स्थापित मंच बन गया है जो दुनिया को दिखाता है कि भारत वास्तव में किसी चीज का प्रतीक है।
मंत्री ने कहा कि नए भारत में हर कलाकार सपना देख सकता है और हर सपने देखने वाला सफल हो सकता है और उन्होंने मीडिया और मनोरंजन उद्योग से एक ऐसे उद्योग का निर्माण करने का आग्रह किया जो प्रगति और समृद्धि की इस यात्रा में पूरे देश का मनोरंजन, सशक्तिकरण, ज्ञानवर्धन और प्रेरणा दे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button