छत्तीसगढ़बिलासपुर संभाग

एफआईआर के 6 साल बाद भी मस्तूरी पुलिस एक ट्रेलर को पकड़ नही सकी, बेटा तो हाथ से निकल गया अब बीमा राशि भी हाथ से फिसल रहा

Advertisement

  • मस्तूरी पुलिस के खिलाफ आईजी और एसपी से शिकायत
  • ट्रेलर क्रमांक NL 01 Q 0952 की तलाश

बिलासपुर। सड़क दुर्घटना में अपना बेटा गंवा चुके एक पिता अब बीमा राशि पाने के लिए पुलिस थाना से लेकर एसपी और आईजी कार्यालय के चक्कर काटने मजबूर है। बताते चले कि ट्रेलर क्रमांक एन एल 01 क्यू 0952 की चपेट में आने से ग्राम कहरौदा निवासी संजय सांडिल की 31 अक्टूबर 2017 में मौत हो गई। मस्तूरी पुलिस ने घटना के बाद धारा 279, 337, 304 ए के तहत एफआईआर दर्ज कर ली, किंतु आज तक उक्त दुर्घटनाकारित ट्रेलर गाड़ी को जप्त करने में सफलता प्राप्त नही कर सके।

मृतक के पिता छ्त्तूराम सांडिल जीवनयापन के लिए बीमा राशि हासिल करना चाहते है। लेकिन बीमा की राशि हासिल करने के लिए आहत दुर्घटनाकारित करने वाले चालक की गिरफ्तारी, वाहन की जप्ती कार्यवाही करना आवश्यक होता है। लेकिन मस्तूरी पुलिस 6 वर्ष बाद भी दुर्घटनाकारित ट्रेलर चालक और वाहन पर कार्यवाही नही कर सकी है । इसके चलते मृतक के पिता को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। परिवार के जीवनयापन के लिए मृतक के पिता जो बीमा राशि पाना चाहते है, उसका लाभ उन्हें नही मिल रहा है मृतक के पिता ने बताया कि वे कई सालों से मस्तूरी थाना के चक्कर काट रहे है, जिसके बाद भी ट्रेलर चालक और ट्रेलर पुलिस के हाथ नही लगा

आईजी और एसपी के नाम सौपा शिकायतपत्र

मृतक के पिता छत्तूराम सांडिल ने बीते दिनों एसपी और आईजी को मस्तूरी पुलिस के उदासीन रवैये के संबंध में लिखित शिकायतपत्र सौपी है। घटना के संबंध में पीड़ित ने आरटीआई के तहत जानकारी चाही उन्हें नही मिला, अब देखना होगा कि आईजी और एसपी को शिकायत सौपने के बाद मस्तूरी पुलिस के कान खड़े होते है या फिर छत्तूराम सांडिल बीमा राशि पाने के लिए पुलिस के आगे – पीछे भटकते रहते है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button