छत्तीसगढ़बिलासपुर संभाग

आपत्ति पर हस्तक्षेप? बिलासपुर तहसीलदार अतुल वैष्णव के खिलाफ कमिश्नर से शिकायत

बिलासपुर। न्यायधानी के तहसील में आख़िर चल क्या रहा है कभी हाईकोर्ट को दख़ल देना पड़ रहा है तो कभी कई एकड़ बेशकीमती शासकीय जमीन को हज़म करने वाले रईस जादो की बजाए षडयंत्र का शिकार रिक्शेवाले को जेल भेजकर वाहवाही लूटी जाती है अब नया मामला सामने आया है जहाँ आपत्ति प्रकरण को लेकर पेट्रोल लेकर अनावेदक को तहसील जाना पड़ा, भले ही तहसील के अंदर कोई बड़ी वारदात नही घटी, मामला थमा नही है। शाही रिजवान पिता नूर अहमद कुरैशी निवासी मसानगंज बिलासपुर ने तहसीलदार बिलासपुर की कमिश्नर से लिखित शिकायत की है जहाँ तहसीलदार पर आरोप है कि तहसीलदार बिलासपुर के द्वारा आपत्ति पर हस्तक्षेप करने के कारण भूस्वामी (अनुबंधित) को मानसिक और आर्थिक क्षती हो रही है आगामी समय मे भारी आर्थिक हानि होने की संभावना है जिस हानि की भरपाई (क्षतिपूर्ति) कर पाना संभव नही होना शिकायतकर्ता के आवेदन में दर्शित है

बता दे कि मोपका हल्का पहन 29 अंतर्गत खसरा क्रमांक 1024/5, 1028/4, 1020/4, 1040/5, 2351/8, 2444/4 एवं 2447/3 सियाराम धुरी के नाम पर शामिल खातों में दर्ज है। जिस पर भूस्वामी की पत्नी सरस्वती बाई धुरी के द्वारा बिक्री पश्चात रजिस्ट्री पूर्व आपत्ति दर्ज की गई है किंतु बाद में आपत्ति हटाने अनापत्ति हेतु तहसील न्यायालय में लिखित आवेदन प्रकरण प्रस्तुत किया गया है इस पर तहसीलदार बिलासपुर के द्वारा आपत्ति जताकर प्रकरण का निकाल नही किया जा रहा है हाल ही में अनावेदक क्रेता पक्ष के द्वारा पेट्रोल लेकर तहसील के अंदर प्रवेश किया गया मामला थाना तक गया, अब शिकायतों पर शिकायत का दौर जारी है शाही रिजवान मसानगंज निवासी ने एसड़ीएम के बाद कमिश्नर से इसकी शिकायत की है अब देखना होगा कि बिलासपुर के पूर्व कलेक्टर एवं वर्तमान कमिश्नर संजय अलंग पेट्रोल से खुद को आग लगाने की चेतावनी देने वाले शाही रिज़वान की शिकायत पर निष्पक्ष जाँच कर दोषियों पर ठोस कार्यवाही करते है और यह पता कर पाते है कि आख़िर तहसीलदार बिलासपुर के द्वारा निजी भूस्वामियों की संपत्ति के रजिस्ट्री पंजीयन पर किस कारणवश रोक आपत्ति को जीवित रखा गया है?

खातेदार की तबियत रहती है ख़राब, भूमि स्वामियों को पूर्ण बिक्रय राशि का भुगतान

शाही रिजवान भूस्वामी (अनुबंधित) ने मोपका के इस जमीन की भूस्वामियों में राधाबाई रूखमणी बाई का तबियत हमेशा ख़राब होना बताया है भूस्वामियों को जमीन का पूरा बिक्री राशि भुगतान करना बताया है यही नही शिकायतकर्ता ने आपत्ति प्रकरण के निराकरण नही होने से खुद को मानसिक पीड़ित बताया है और भारी भरकम आर्थिक क्षती होने की स्थिति में क्षत्रीपूर्ति की भरपाई नही कर पाने की प्रशासन को चेतावनी भी दिया है उसके बाद भी इस मामले को अधिकारी गंभीरता से नही ले रहे है

अनुबंध में घोषित रजिस्ट्री पंजीयन की समयसीमा समाप्त

निष्पादित इकरारनामा के अनुसार आपत्ति प्रकरण के निकाल नही होने से रजिस्ट्री कराने का तय समयसीमा समाप्त हो चुका है भूस्वामी रजिस्ट्री कराने तत्पर है लेकिन बिलासपुर तहसील आपत्ति कर्ता के अनापत्ति को ही स्वीकार नही कर रहा है?

आदेश टाइप लेकिन तहसीलदार का हस्ताक्षर नही

शिकायतकर्ता ने लिखित शिकायत में उल्लेखित किया है कि आदेश टाइप हो चुका है सिर्फ तहसीलदार का हस्ताक्षर होना बचा है इसकी प्रति भी शिकायतकर्ता ने मीडिया को सौपा है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button