छत्तीसगढ़बिलासपुर संभाग

राशन पाने राशन दुकान के चक्कर काट रहे लोग, राशन दुकान संचालक की मनमानी

Advertisement

बिलासपुर । केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा संचालित पीएम गरीब कल्याण योजना के माध्यम से गरीबों को मिलने वाले चांवल की अफरातफरी या कहे हेराफेरी का मामला इन दिनों काफी सुर्खियों में है। दरअसल मामले से संबंधित एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में राशन दुकान संचालक की मनमानी उजागर हो रही है, वीडियो में दिख रहे लोगो का कहना है कि आए दिन उन्हें चांवल लेने के लिए भटकना पड़ता है, जब भी दुकान पहुंचते है या तो बंद रहती है या फिर दुकान में चांवल नही है कहकर हमे चलता कर दिया जाता है। यह समस्या विगत कई दिनों से बनी हुई है, लेकिन इस पर ध्यान देने वाला कोई नहीं है। लोगों के मुताबिक दुकान संचालक कहता है कि जाओ जिससे शिकायत करना है कर लो। यहां पर देखने वाली बात यह है कि समय समय पर इन दुकानों में निरीक्षण करने वाली टीम के सदस्यों तक इस बात की जानकारी नही पहुंचती या फिर सब कुछ जानने के बाद भी खाध अधिकारी अवैध लाभ के मोह में राशन माफियाओं के आगे नतमस्तक होकर इस जनहितैषी योजना को पलीता लगा रहे है।

देश के 80 करोड़ गरीबों को है मुफ्त राशन देने की योजना

अभी हाल मे ही देश के प्रधानमंत्री मोदी ने छत्तीसगढ़ के दुर्ग में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि वह मुफ्त राशन योजना को आने वाले पांच साल के लिए बढ़ाएंगे. पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था ‘मैंने निश्चय कर लिया है कि देश के 80 करोड़ गरीबों को मुफ्त राशन देने वाली योजना को भाजपा सरकार अब अगले पांच साल के लिए और बढ़ाएगी. आपको बता दे साल 2020 कोविड के दौरान पीएम गरीब कल्याण योजना जारी की गई थी. इसके तहत गरीबी रेखा के नीचे परिवारों को हर महीने पात्रता अनुसार मुफ्त में राशन मिलती है. इस योजना के लिए अंत्योदय अन्न योजना वाले परिवार, प्राथमिकता वाले परिवार, गरीबी रेखा से नीचे वाले परिवार, एकल महिला या एकल पुरुष, भूमिहीन खेतिहर मजदूर आदि पात्र हैं।

देश में सबसे बड़ी जाति कोई है वो जाति है गरीब

पीएम मोदी का बार-बार ये कहना कि अगर मेरे देश में सबसे बड़ी जाति कोई है वो एक ही है वो जाति है गरीब। जो गरीब है, मोदी उसका सेवक है, मोदी उसका भाई है, मोदी उसका बेटा है। भाजपा सरकार ने जो नीतियां बनाईं, उससे आज देश में गरीबी कम हो रही है। मोदी ने यह भी कहा था कि गरीब की सबसे बड़ी चिंता यह रहती है कि अपने बच्चों को खाना क्या खिलाएंगे? कोई भी मां खुद पेट बांधकर सो सकती है, लेकिन अपने बच्चे को भूख से बिलखता हुआ नहीं देख सकती। कोई भी पिता, मजदूरी करनी पड़ी तो करेगा, रात-रात काम करना पड़े तो करेगा, कोई भी काम करना पड़ेगा तो करेगा लेकिन अपने बच्चो को भूखा नहीं देख सकता। इसलिए भाजपा सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना शुरू की। इस योजना की वजह से आज भी छत्तीसगढ़ के लाखों गरीबों को मुफ्त चावल और चना मिल रहा है।

वन नेशन, वन राशन कार्ड की सुविधा केवल कागजों में सिमटी

विदित हो कि मोदी ने देशवासियो को वन नेशन, वन राशन कार्ड की सुविधा दी है लेकिन यह योजना केवल कागजों में ही सिमटकर रह गई है, धरातल पर उसका कोई प्रभाव नहीं है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था यहां के अनेक साथी काम के लिए, रोजी-रोटी कमाने के लिए या और काम से बाहर जाते हैं। भाजपा सरकार ने ऐसा इंतजाम किया है कि आप देश के किसी भी हिस्से में जाएं, तो भी आपको मुफ्त राशन मिलता रहेगा। इसलिए ही मोदी ने आपको वन नेशन, वन राशन कार्ड की सुविधा दी है। पहले जो कार्ड होता था ना, अगर एक दुकान से दूसरी दुकान जाए तो भी घुसने नहीं देता था, वो कहता था इधर का नहीं है, उधर जाओ। वो कहता था उधर तो खाली हो गया तो बोलता था कि यहां तो नहीं मिल सकता है। ये जमाना था… ये मोदी का जमाना देखिए, अब हिंदुस्तान में कहीं भी जाइए, आप छत्तीसगढ़ का कार्ड दिखाएंगे । मोदी का गारंटी कार्ड हिंदुस्तान के किसी भी कोने में आपको भूखा नहीं रहने देगा। लेकिन इन जनहितैषी योजनाओं के क्रियान्वयन को लेकर जिम्मेदार अफसर बिलकुल भी सजग नजर नही आते, इन्हे गरीबों से कोई सरोकार नहीं। अगर कोई परेशानी लेकर इनके पास पहुंच भी जाए तो ये कई प्रकार की दलीले देकर अपना पिंड छुड़ा लिया करते है।

क्या आमजनता को हो रहे परेशानियों से मिलेगा छुटकारा ?

अब यहां पर देखने वाली बात यह होगा कि कई प्रकार के सूचनाओं, शिकायतो, और समाचारों के प्रकाशन के बाद संबंधित अधिकारी या प्रशासन इस गम्भीर मुद्दे पर संज्ञान लेकर अपनी जिम्मेदारी निभाएंगे या यह समस्या भी अन्य मामलों की तरह दबा दी जाएगी। और राशन दुकान संचालक की मनमानी बढ़ती जायेगी। और जनता जनार्दन को हमेशा की तरह अपनी परेशानियों से जूझते रहना पड़ेगा।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button